Skip to main content

Posts

Showing posts from September, 2020

कम्युनल अवार्ड और पूना पैक्ट।communal award and poona pact.

कम्युनल अवार्ड और पूना पैक्ट(communal award and Poona pact) एक तरफ भारतीय अंग्रेजो से शासन में भागीदारी की मांग कर रहे थे और करना भी चाहिये,भाई मेरा देश है,मेरे लोग हैं फिर तुम कौन होते हो इंग्लैंड से आकर हमारे उपर शासन करने वाले।शासन में हमे भी भागीदारी चाहिए।तो दूसरी तरफ अंग्रेज तो भारतियों को बांटने में ही लगे हुए थे। उदाहरण के लिए 1909 के मार्ले मिंटो सुधार के द्वारा केंद्र(वर्तमान के संसद के समतुल्य)और राज्य (वर्तमान में राज्य विधानमंडल के समतुल्य)में जो भारतीय प्रतिनिधि होते थे उन्हें भारतीय प्रतिनिधि के स्थान पर बड़ी चालाकी से हिन्दू प्रतिनिधि और मुस्लिम प्रतिनिधि बना दिया गया।अब हिन्दू प्रतिनिधि को हिन्दू और मुस्लिम प्रतिनिधि को मुस्लिम ही चुन सकते थे। 1919 में बात और आगे बढ़ गयी।इसमे हिन्दू और मुस्लिम के अलावे सिख,इसाई, आंग्ल भारतीय और यूरोपियन को को भी अलग प्रतिनिधित्व दे दिया गया। चलो इतना तो फिर भी ठीक है।सारे धर्म के लोगो को प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए।लेकिन तब क्या होगा जब किसी एक धर्म के जातियों को भी अलग से प्रतिनिधित्व मिलने लगे।ये तो एक धर्म के लोगो को भी आपस मे तोड़ने वाली